अंदर की असली खबर : पंजाब सुच्चा काण्ड

सुच्चा सिंह ने सिसोदिया पर दो करोड़ रूपये लेकर टिकेट देने का खुलासा कर दिया | सुच्चा सिंह वही आदमी है जो केजरीवाल के दिल्ली चुनाव के लिए पंद्रह करोड़ से ज्यादा का इंतज़ाम कनेडा और ऑस्ट्रेलिया के वालंटियर्स से करवाकर पंजाब के संयोजक बने थे | ये बात सभी जानते हैं कि टिकेट देने का काम सिर्फ और सिर्फ केजरीवाल और सिसोदिया ही करते हैं बाकि पार्टी में कोई और है ही नहीं जिसको ये दोनों पूछते हैं तो ऐसे में सिर्फ दो लाख रूपये के बदले में टिकेट नहीं मिल सकती ये गली में खेलने वाले बच्चे भी जानते हैं क्यूंकि उनके स्चूलों की फीस ही इससे ज्यादा है | तो आखिर इसके पीछे का सच है क्या ये जानिये |

पंजाब में सुच्चा सिंह एक कद्दावर नाम बनते जा रहे थे जो हमेशा से ही इस बात के लिए जाने जाते हैं कि उनके हाथ में आया एक एक पैसा पार्टी फण्ड में जाता है | तो यहाँ चाहे कोई एक रुपया लेकर आये या दो लाख लेकर आये वो सीधा पार्टी फण्ड में जाता है जिसकी जिम्मेदारी खुफिया रख ली जाती है | जबसे आवाम नें हवाला काण्ड उजागर करा है तबसे आम आदमी के एकाउंट्स को जनता के सामने से हटा लिया गया है क्यूंकि जनता ने पहली बार ये जाना कि कैसे उनको धोखा दिया जा रहा था और देश के दुश्मन कैसे अरविन्द केजरीवाल को देश के खिलाफ साजिश करने के लिए पैसा मुहैया करा रहे थे |

पंजाब इलेक्शन में जब सुच्चा सिंह को इस बात का पता पड़ा कि सरेआम दो दो करोड़ रूपये पीछे वाली खिड़की से सिसोदिया के द्वारा लिए जा रहे हैं तो उसने बहुत आपत्ति दर्ज करवाई और साथ ही अपनी चालीस साल की ईमानदारी का हवाला देकर इस तरह के कार्यक्रम बंद करके स्वच्छ राजनीती को ही आगे बढाने के बारे में बार बार अरविन्द, सिसोदिया और भगवंत मान को नेवेदन करा | इस बात से अरविन्द बौखला गया और सिसोदिया के साथ मिलकर उन्होंने ही रस्ते के इस कांटे को उखाड़ फेंकने कि साजिश कर दी |

पहले तो उन्होंने दो लाख रूपये लेकर एक आदमी को भेजा कि सीधा सुच्चा सिंह के पास जा और पार्टी फण्ड में जमा करवा देना और रिकॉर्ड भी कर लेना कि ऐसा लगे टिकेट के एवज में पैसे दे रहा है फिर सुच्चा सिंह की बलि चढाने की तैयारी कर ली और प्लान बनाया गया कि किस तरह सांप भी मर जाए, लाठी भी न टूटे और मरे हुए सांप के पैसे भी मिल जाएँ | तो केजरीवाल ने पीछे दिनों से पार्टी के पास इलेक्शन लड़ने के लिए पैसा नहीं होने वाली बात अपने पट्ठे मीडिया वालों से फैलाई और पहले से ही ये माहौल बना लिया कि अगर सुच्चा सिंह ने दो करोड़ वाली बात सबके सामने लायी तो हमारा बचाव कैसे होगा | इसके चलते आज सभी बेवक़ूफ़ लोग ये मान बैठे कि पैसे नहीं है और अगर सुच्चा ने भांडा फोड़ करा तो आराम से उसको ही उल्टा झूठा साबित करने के लिए आशुतोष जैसे किसी को टीवी पर रोने भेज देंगे और वो वैसे ही रो रोकर मगरमच्छी आंसू बहायेगा जैसा गजेन्द्र की मौत के बाद मीडिया में आकर बहाए थे मगर आवाम ने फोटो जारी कर उसकी पोल पट्टी दिखा दी थी कि आशुतोष ही सबसे आगे तालियाँ पीटकर “लटक गया लटक गया ” कर रहा था बाद में बात बिगड़ जाने पर रो रोकर अपने गुनाहों पर पर्दा डालने वाला नाटक करने के लिए टीवी पर आया |

अब जो सुच्चा के साथ हो रहा है वो उसी के ही लायक था क्यूंकि ऐसा तो है नहीं कि सुच्चा ने आवाम द्वारा करे गए हवाला काण्ड के खुलासे देखे सुने नहीं होंगे और उसको पता नहीं होगा कि देशद्रोही लोगो ने जो हवाला काण्ड करके पैसे भेजे हैं वो पैसे को बेशरम आदमी के लेने के बाद वो सुच्चा की राजनीतिक बलि नहीं देगा | इसके पहले योगेन्द्र यादव जैसे लोग भी हवाला काण्ड के सामने आने के बाद भी अरविन्द और सिसोदिया की तरफदारी करते नहीं थकते थे और इस गलती की सजा अरविन्द ने खुद ही उनके लात जमकर दी | लात जमाते हुए अरविन्द ये जरुर सोच रहा होगा कि इसको हवाला के बारे में सब पता होकर भी चुप बैठा है तो वैसे भी ये योगेन्द्र कोई इमानदार आदमी तो है नहीं इसलिए इसके लिए एक लात तो बनती ही है |

No comments yet.

Leave a Reply