Complete Truth Revealed by Karan Singh

में चाहता हु की अगर अवाम के सच की बात हे तो पूरा ही सच जान लिया जाए की इसका आधार क्या हे ! 16 तारीख को हमारा सत्याग्रह शुरू होने वाला था जंतर मंतर पर उससे तीन दिन पहले राजेश गुप्ता जी जो आम आदमी पार्टी के पुराने वालंटियर हैं और सत्येन्द्र जैन जो कि हमारे एक्स हेल्थ मिनिस्टर हैं राजेश गुप्ता जी सत्येन्द्र जी के सहयोगी हे [ सहयोगी रहे भी हे पहले और अभी भी सहयोगी हे ] वो आये मेरे पास और उनके साथ दो वालंटियर और भी थे जिसमें कपिल भारद्वाज, आर एस राणा थे, उन्होंने कहा कि सपोर्ट करते हैं AVAM को और आप बहुत अच्छा प्रयास कर रहे हो, हम लोग भी पुराने वालंटियर हैं और हमारी जो वर्त्तमान परिस्तिथियाँ हैं पार्टी की, और वालंटियर की जो हालत है उसको देख कर बड़ी चिंता होती है हम चाहते हैं कि जो प्रयास आप कर रहे हैं इसमें आप सफल हो और हम जो भी सहयोग होगा इसमें करेंगे

राजेश गुप्ता जी ने तो ये कहा कि में प्रत्यक्ष तौर पर तो नहीं आ पाऊंगा क्यूंकि मेरे पास जिम्मेदारी है अभी लेकिन मेरे ये जो साथी हैं ये आपकी मदद कराएंगे काम में, तो हमने उनको शामिल कर लिया और वो यहाँ जंतर मंतर पर सहयोग भी कर रहे थे, इसी प्रक्रिया में जब हम लोग आपस में contribute कर रहे तो सबने दो-दो हज़ार, पांच-पांच हज़ार रूपये contribute करके काम किया. जब फण्ड की कमी महसूस हुई तो कपिल भरद्वाज ने कहा की हम आपकी मदद करवा सकते हैं और खुद भी कुछ मदद करेंगे और कुछ साथी हे जो मदद करेंगे, तो हमने कहा ठीक है, इसी प्रोसेस में कपिल भरद्वाज जी ने विवेक भल्ला से बातचीत करी होगी तो फिर हमारे कुछ साथी को उन्होंने कहा की वो यहाँ नहीं आ सकते तो उनका पटेल नगर में जो ऑफिस है वहां जाकर मिल लीजिये तो हमारे दो साथी गोपाल गोयल जी और अखिलेश भाई वहाँ गए तो उन्होंने [भल्ला जी ने] पच्चीस हज़ार रूपये की सहायता राशी दी इसके साथ उन्होंने ये भी कहाँ की वो और भी सहायता देना चाहते हैं लेकिन हम करण भाई के हाथ में ही देना चाहते हैं तो उन लोगो ने आकर मुझे कहा की इस इस तरह से बात है तो मैंने कहा की में तो जंतर मंतर के अलावा कहीं पर जा नहीं सकता में तो यहीं हु सोलह तारिख से लगातार. अगर उनको सहायता करनी है तो यहीं पर आकर सार्वजनित तौर पर हमारे पास आकर कर सकते हे 

अगले दिन खुद विवेक भल्ला, कपिल भरद्वाज आये, उस समय यहाँ पर 10-12 वालंटियर बैठे हुए थे और उन्होंने आकर बातचीत करी और उस बातचीत की प्रक्रिया में उन्होंने आकर कहा की हम बड़ी तरह से त्रस्त हैं परेशान हे और हमने अपना समय ख़राब कर दिया , हम चाहते हैं की पार्टी में आगे की प्रक्रिया ठीक ढंग से चले और हम चाहते हैं की आपको जो भी सहयोग की जरुरत पड़े वो हम करें. उन्होंने सहयोग वश पचास हज़ार की राशि देने की बात कही और काउंट करके उन्होंने पैसे अखिलेश भाई दो दे दिए. सामान्य हमारी बातचीत हुई और उन्होंने ये भी कहा की नाम हमारा न आये तो मैंने उनसे कहा की यह काम तो जैसे लड़की की शादी होती है ये उस तरह का काम है और जो भी लोग इसमें सहयोग करेंगे वो सब हम चाहते हैं की सब को एक दुसरे का पता रहे की कौन कितना सहयोग कर रहा है . उन्होंने जो भी उस दिन फण्ड दिया वो हमने हमारे अकाउंट में और नोटिस बोर्ड पर जो लिस्ट लगाईं हुई है तो भल्ला जी के नाम पर लिस्ट थी कि उन्होंने जो पैसे उन्होंने दिए वो मेंशन थे.
जितने बी लोगो ने सहयोग किया है और जितना भी हमारा खर्चा हुआ है वो हम यहाँ लिस्ट लगाकर रखते हैं और कोई भी आकर देख सकता है. और इस प्रक्रिया में हम कोशिश करते हैं की कम से कम खर्चे में हम लोग काम चाहल्ये हमारे पास पैसे नहीं हैं ज्यादा और इसी वजह से दोपहर का खाना गुरूद्वारे से लाकर खाते हैं और जितनी भी बचत हो उस तरह से काम चला रहे हैं

इस सम्बन्ध में मैं एक दो बातें कहना चाहता हु की उन लोगो की क्या intention थी , सत्येन्द्र जैन जी के जो सहयोगी थे, राजेश गुप्ता जी क्या सोचकर आये थे इस चीज़ से हमें कोई मतलब नहीं था, हमें तो ये था कि पार्टी के वालंटियर हैं और साथ में काम करना चाहते हैं तो आकर देख लें की हम लोग पूरी पारदर्शिता के साथ काम करते हे! और में तो चाहता हु की अरविन्द जी की तरफ से कोई व्यक्ति आए और देखे की हम लोग क्या कर रहे हे तो हमारे साथ जान लेंगे और कुछ दुर्भावना कुछ लोगो में हे तो व्वो भी दूर हो जाएगी इसलिए हमने उन्हें पूरा मोका दिया और उनका स्टिंग करने का क्या उद्देश्य था अवाम की छवि ख़राब करने का उनका उद्देश्य था ये सत्येन्द्र जी ने उनको कहा या पार्टी के किसी लीडर ने कहा यह जानकारी तो वो लोग ही दे सकते हे ! मेरे पास जितना सच था मेने आप सब को बता दिया 

इससे दो बाते स्पष्ट होती हे आम आदमी पार्टी के वालंटियर्स से ही हमे जो डोनेशन या हेल्प मिलती हे वो लेते हे चूँकि यह पार्टी के काफी पुराने वालंटियर थे और में इन्हें काफी समय से जनता था इसलिए यह सहायता ली और दूसरी बात में चाहता हु की अगर इस टेप में कुछ विवादास्मक हे तो जेसे शाजिया जी और कुमार विश्वास जी का स्टिंग हुआ था दिसम्बर के चुनाव से पहले तो हमारे लीडर जेसे योगेन्द्र यादव जी और बाकि सब ने भी Raw फुटेज की मांग की थी तो हम भी यही कहना चाहते हे की अगर आपको लगता हे की कुछ गलत हे तो फुटेज जारी कीजिए ! और जो व्यक्ति भी इस फुटेज के पीछे हे वो यहाँ स्टेज पे आइए.. हम हेरान हे की लोग क्यू बदनाम करते हे आवाम को ! जिस व्यक्ति ने भी मेसेज डलवाया था वो सामने नहीं आये और अभी भी जिन्होंने स्टिंग कराया हे वो भी सामने नहीं आना चाहते ! अगर वो चाहे तो सारी बाते यह पूछ सकते हे और कही गलती हे तो सबके सामने बता सकते हे !

AVAM Accounts – All Expenses and donations 

AVAM Hangout 

Download Complete Truth Revealed by Karan Singh Audio File

No comments yet.

Leave a Reply